हमारे यहाँ नाकामी को बिलकुल ही पसंद नहीं किया जाता| उस पर “लोग क्या कहेंगे?” का डर उसे औरभी नापसंद बना देता है| वैसा